Wazifa For Love Marriage To Agree Partner

Wazifa For Love Marriage To Agree Partner , ” Make This Easy Taweez For Love Of Surah Ikhlas Only For Legible Purposes. If You Have Any Other Difficult Task, You Can Make This Amulet Even To Remove That Hard Task Also. Insha ALLAH This Taweez For Making Someone Love You Will Definitely Show It’s Miraculous Results.

Wazifa For Love Marriage To Agree Partner

Before starting this amal for any love purposes like creating love in someone’s heart. In the same case imagine that person while writing this.

How to Make this Surah Ikhlas Amulet?

Do not forget to perform  Nikah Istikhara before beginning this. The result of which should come in your favor.

You can make this amulet any time except zawal time. Get yourself free from washroom etc to have best concentration.

Make a fresh ablution.

Get one pure white paper and pen with any type of ink (without alchohol).

Imagine the person if your are making this for love marriage purposes.

Make small equal 8 horizontal and 8 vertical boxes.

Write 786 on the top. Now, start from right to left as in you write in Urdu. Begin with ‘Qul‘ and finish it with ‘Ahad‘.
Wrap this paper up safely. Make two copies of amulet if you have pomegranate tree within your home premises hang one copy safely on it. (Do not photostat/Xerox, make two handwritten copies).

Along with this, put another copy safely beneath your pillow.

When you wake up in the morning you can place it safe somewhere and put it again beneath your pillow in the night when you sleep.

In case if you don’t have any pomegranate tree you can only make one copy to put it beneath your pillow.

Insha ALLAH as the days will pass you will see the miraculous results Ameen.

Wazifa For Love Marriage To Agree Partner in Hindi

इस तावीज़-ए-मुबारक को आप हर जायज़ काम के लिए बना सकते है| ज़रूरी नहीं के मुहब्बत का ही कोई काम हो| ये तावीज़ निहायत ही फायदा बख़्श है और मुजर्रब है|
अगर किसी के दिल में मुहब्बत पैदा करने के लिए इस तावीज़ को लिख रहे है तो जिसके लिए बनाना चाहते है उनका तसव्वुर करते हुए बनाये|

तावीज़ कैसे लिखना है?

ये अमल शुरू करने से पहले ‘निकाह इस्तिख़ाराह’ ज़रूर कर लें और वो आपके हक़ में हो|

तहारत वगैरह से फ़ारिग़ हो कर|

बा वुज़ू हालत में रह कर तावीज़ लिखे|

पाक-साफ काग़ज़ और क़लम से लिख सकते है जिस स्याही में अल्कोहल न हो|

तावीज़ लिखते वक़्त अगर मुहब्बत के लिए लिख रहे है तो महबूब का बा ख़ुलूस-ओ-मुहब्बत तसव्वुर करें|

ऊपर से निचे और दाएं से बाएं तरफ 8-8 एक जैसे बराबर ख़ाने बना लें|

सबसे ऊपर 786 लिखें| उन खानों में निचे दिए हुए आयात के कलाम ‘क़ुल’ से शुरू करें| सबसे ऊपर से दाएं तरफ से लिखे| ठीक जैसे उर्दू लिखते है| ‘अहद’ तक पूरा तावीज़ लिख लीजिये|

अगर आपके घर में अनार का पेड़ है तो दो तावीज़ बना लें| एक अनार के पेड़ पर लटकाने के लिए और एक तकिये के निचे रखने के लिए| दोनों को किसी पाक-साफ कपड़े या थैली में एक तावीज़ को बांध कर उस पेड़ पर हिफाज़त से लटका दें| (दोनों तावीज़ हाथ से ही लिखे फोटोकॉपी न करें|)

और इसके साथ-साथ दूसरे तावीज़ को हिफाज़त से बांध कर अपने सिराहने रख लें| रोज़ाना हटा सकते है और कहीं हिफाज़त से रख दें| रात होने पर सिराहने पर रख सकते है|

अगर पेड़ नहीं है तो आप सिर्फ एक ही तावीज़ बनाएं जो सिर्फ सिराहने यानि तकिये के निचे रखने के लिए होगा|

इन्शा अल्लाह जैसे-जैसे दिन निकालेंगे करिश्माई असर नज़र आएगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *